1 thought on “जानिए आज 17 नवंबर 1962 को अकेले चीन को परास्त करने वाले उत्तराखंड के इस महायोद्धा की इतिहास से शिकायत

  1. राइफलमैन जसवंत सिंह रावत,महावीर चक्र (४ गढ़वाल राइफल्स) समस्त भारतीय सशस्त्र सेनाओं के गौरव हैं.नूरानांग क्षेत्र (जंग के पास,कामेंग डिवीज़न ,तत्कालीन नेफा स्थित) में हुई चीनी सिपाहियों और ४ गढ़वाल राइफल्स के बीच लड़ाई में इनकी भूमिका सराहनीय रही.४ गढ़वाल राइफल्स के कमान अफसर को भी महावीर चक्र से नवाजा गया .साथ – साथ इस पलटन को कई वीर चक्रों और अन्य वीरता पुरुस्कारों से सम्मानित किया गया था.पूरी यूनिट को युद्ध सम्मान ‘नूरानांग’से सम्मानित किया गया.
    Except for the tale of the Unit’s & his personal bravery ,all other stories are fabricated & untrue.I would request the Editor to let me know the source of these stories.
    I have served the illustrious GARHWAL RIFLES for almost four decades.Infact,my first posting was in the area of Jaswantgarh itself – erstwhile N.E.F.A. – now called Arunachal Pradesh.

Leave a Reply

Your email address will not be published.